Search This Blog

Tuesday 26 September 2023

राजस्थान साहित्य अकादमी के पुरस्कारों में छाए 'इक्कीस' के विद्यार्थी


अकादमी द्वारा वर्ष 2023-24 के घोषित वार्षिक पुरस्कारों में पांच पुरस्कार लेकर रचा नया इतिहास


उदयपुर। 26 सितंबर। ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा की अलख जगा रहे इक्कीस संस्थान के विद्यार्थियों ने राजस्थान साहित्य अकादमी द्वारा मंगलवार को घोषित हुए वार्षिक पुरस्कारों में से पांच पुरस्कार जीतकर नया इतिहास रच दिया है। बीकानेर संभाग में यह पहला अवसर है जब एक ही शिक्षण संस्थान के पांच विद्यार्थी साहित्य के क्षेत्र में पुरस्कृत होंगे। 

इक्कीस कॉलेज के दामोदर शर्मा, पवन गोसांई,और कौशल्या जाखड़ तथा इक्कीस एकेडमी फॉर एक्सीलेंस की छात्र द्रौपदी जाखड़ और करुणा रंगा को साहित्य की अलग-अलग विधाओं में वर्ष 2023-24 के पुरस्कार देने की घोषणा हुई है।


अकादमी सचिव डॉ. सोलंकी ने बताया कि संचालिका-सरस्वती बैठक अनुमोदन के पश्चात अकादमी अध्यक्ष डॉ. दुलाराम सहारण ने विद्यालयी-महाविद्यालयी पुरस्कार की घोषणा की। विजेता विद्यार्थियों में चंद्रदेव शर्मा पुरस्कार के तहत कविता के लिए दामोदर शर्मा, इक्कीस कॉलेज गोपल्याण-लूनकरनसर, कहानी के लिए सुरेंद्र सिंह, राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर, एकांकी के लिए अमनदीप निर्वाण, एसएसएस कॉलेज, तारानगर, निबंध के लिए पवन कुमार गुसांई, इक्कीस कॉलेज, गोपल्याण को दिया जाएगा। वहीं परदेशी पुरस्कार के तहत कविता के लिए शुंभागी शर्मा, राउमावि भवानीमंडी-झालावाड़, कहानी के लिए परी जोशी, द स्कोलर्स एरिना, उदयपुर, निबंध के लिए करुणा रंगा, इक्कीस एकेडमी फॉर एक्सीलेंस, गोपल्याण, लघुकथा के लिए द्रोपती जाखड़, इक्कीस एकेडमी फॉर एक्सीलेंस, गोपल्याण को दिया जाएगा। वर्ष 2023-24 का सुधा गुप्ता पुरस्कार निबंध के लिए इक्कीस कॉलेज, गोपल्याण की कौशल्या को दिया जाएगा।

संस्थान की अध्यक्ष श्रीमती आशा शर्मा ने विद्यार्थियों की इस उपलब्धि पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह सही मायने में टीम वर्क का प्रयास है। संस्था सचिव डॉ. हरिमोहन सारस्वत ने विद्यार्थियों के प्रयासों की प्रशंसा की और मंजिल पाने की दिशा में इसे बड़ा कदम बताया। संस्था के प्राचार्य राजूराम बिजारणियां ने इसे साहित्य की जमीन में नवांकुरों का ऊगना बताया है।

इस ऐतिहासिक उपलब्धि पर सरोकार से जुड़े डॉ.मदन गोपाल लढ़ा ने खुशी का इज़हार करते हुए बताया कि गत कई वर्षों से लूणकरणसर में सरोकार संस्थान के माध्यम से साहित्यिक वातावरण बना है, यह गौरवान्वित करने वाला है। सरोकार संस्थान से जुड़े ओंकारनाथ योगी, गोरधन गोदारा, रामजीलाल घोड़ेला, छैलूदान चारण, दलीप थोरी, जगदीशनाथ भादू, केवल शर्मा, दुर्गाराम स्वामी, कमल पीपलवा, कान्हा शर्मा, रामेश्वर स्वामी, भूपेन्द्र नाथ सहित विभिन्न जनों ने बधाई प्रेषित की।

No comments:

Post a Comment

आलेख पर आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है. यदि आलेख पसंद आया हो तो शेयर अवश्य करें ताकि और बेहतर प्रयास किए जा सकेंं.

अनूठी कहाणियां रौ संग्रै — ‘पांख्यां लिख्या ओळमां’

  (समीक्षा-प्रेमलता सोनी) "हथाई रै गोळी कुण ठोकी ?" "चैटिंग !" "ओ हो, वा अठै कद पूगी ?"... ‘गरागाप’ कहाणी सूं ...

Popular Posts