Search This Blog

रंगों का डर


जीवन में रंग जरूरी हैं
रंगों के बिना जिंदगी अधूरी है.
लेकिन इन दिनों
डरने लगा है
रंगों से मेरा मन.

यदि लाल मेरी पसंद है
लोग मुझे कामरेड बताते हैं
नीला मुझे भाता है
तो यकीनन मेरा दलितों से नाता है.
केसरिया पहनते ही मैं हिंदूवादी
घोषित हो जाता हूं
हरा बताते ही
मुस्लिमों में खो जाता हूं.
काला रंग मुझे सत्ता विरोधी बताता है
गुप्तचर एजेंसियों को
बिना बात मेरा भय सताता है.

और सफेद !
वो तो अब रंग ही नहीं है
क्योंकि शांति से जीने का 
हमारे पास ढंग ही नहीं है.

सच पूछिए
सफेद कुरते-पायजामे
अब इतना शर्मसार करते है
पहनते ही लोग मेरा नाम भूल जाते हैं
नेताजी कहकर प्रहार करते हैं

तुम्ही कहो
मैं रंगों से डरूं नहीं
तो क्या करूं
बेरंग होना मुझे भाता नहीं है
मगर सच कहता हूं
मेरा सियासत से
कोई नाता नहीं है.
                     -रूंख

No comments:

Post a Comment

आलेख पर आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है. यदि आलेख पसंद आया हो तो शेयर अवश्य करें ताकि और बेहतर प्रयास किए जा सकेंं.

अनूठी कहाणियां रौ संग्रै — ‘पांख्यां लिख्या ओळमां’

  (समीक्षा-प्रेमलता सोनी) "हथाई रै गोळी कुण ठोकी ?" "चैटिंग !" "ओ हो, वा अठै कद पूगी ?"... ‘गरागाप’ कहाणी सूं ...

Popular Posts