Search This Blog

रूंख भायला


अंबर मुळकै धरती हुळसै
हरियल गाछ खडया गावै
ळुळ ळुळ करै जुहार आपरी
रूंख भायला कांई चावै...

पांख पखेरू जीव जिनावर
सगळा म्हारा बेली है
मोद घणेरो मिनखपणै रो
मिनखो सैं सूं पैली है
करै किळोळां टाबरिया जद
म्हारा मनड़ो हरसावै
ळुळ ळुळ करै जुहार.....

आओ थारी झोळी भरदयां
साग पात अर फूलां सूं
खाटा मीठा भांत भंतीला
फळ ल्यो म्हारी डाळां सूं
बाग बगीचां सोरम फूटै
घर आंगणियो सरसावै
ळुळ ळुळ करै जुहार.....

मिनखा थारी जिया जूण में
म्हारी अरपण काया है
जीणो मरणो थारै साथै
करमां लेख लिखाया है
रीत प्रीत री पाळ रया म्हे
लेणो नीं देणो भावै
ळुळ ळुळ करै जुहार.....

काट बाढ नै करो बळीतो
कुण सो थान्नै पालै है
पण जद बाढो हरयै रूंख नै
म्हारा हिवड़ा हालै है
डरै पंखेंरू आभो कळपै
नैणा नीर उतर आवै
ळुळ ळुळ करै जुहार.....

बिरवा रोपो बीज तोप दयो
गांव गळी अर खेता में
हेत रो पाणी नित उठ घालो
म्हे मुळकांला रेतां में
म्हारी रंगत देख बादळी
हरख हरख बिरखा ल्यावै
ळुळ ळुळ करै जुहार....

-रूंख

No comments:

Post a Comment

आलेख पर आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है. यदि आलेख पसंद आया हो तो शेयर अवश्य करें ताकि और बेहतर प्रयास किए जा सकेंं.

सुप्रसिद्ध रंगकर्मी और साहित्यकार मधु आचार्य के जन्मदिवस पर एक यादगार शाम का आयोजन

कभी तो आसमान से चांद उतरे ज़ाम हो जाए  तुम्हारा नाम की भी एक सुहानी शाम हो जाए.... सोमवार की शाम कुछ ऐसी ही यादगार रही. अवसर था जाने-माने रंग...

Popular Posts