Search This Blog

सुण मरवण


आ थोड़ा सुवारथी बणा
घड़ी स्यात
अर जीवां कीं सांसा
फगत आप सारू.
कै नाम तो अवस है आपणा 
इण लाम्बी सी जिया जूण माथै
 पण म्हूं अर थूं 
कद जी आ जूण 
आपरी इणछा मुजब ?

सांची बताई-
बरस दर बरस 
निसरती जिनगाणी
ज्यूं टोपै-टोपै पाणी री
धोबै भरी कहाणी
जिण में सूंपिज्यो
तन्नै अर मन्नै
बस हंकारै भरणै रो काम.

आपां सुणता रया
बांरै श्रीमुख सूं
भांत-भांत री बातां
जिकी बैे परूसता रया
रोटी जिम्यां रै पछै
 डकार लेवण सारू.

ना बात आपणी ना कहाणी
बस हंकारो
कै कठई बै रूस नीं जावै.

इण अणचिन्ती चिन्ता मांय
आपांरा चैरा कद बुझ्या
अर काळा केस कद होग्या धोळा
ओ ठाह ई नीं लाग्यो.
पण आज जद चाणचकै...
बगत रै काच साम्ही
हंकारो भरतां
पळक्यो थारों बुझ्योड़ो चैरो
दियै री बाती रै
 छेकड़लै उजास दांई
म्हारै अन्तस घट
 च्यानणो उतरयो
जुगां पछै बापरी 
अेक उजळी आस
हंकारै री ठौड़
हंकारो छोड़
सुवारथी बण जावण री.
तो आ जीवंा छेकड़लो उजास 
फगत आप सारू.
            



No comments:

Post a Comment

आलेख पर आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है. यदि आलेख पसंद आया हो तो शेयर अवश्य करें ताकि और बेहतर प्रयास किए जा सकेंं.

अनूठी कहाणियां रौ संग्रै — ‘पांख्यां लिख्या ओळमां’

  (समीक्षा-प्रेमलता सोनी) "हथाई रै गोळी कुण ठोकी ?" "चैटिंग !" "ओ हो, वा अठै कद पूगी ?"... ‘गरागाप’ कहाणी सूं ...

Popular Posts