Search This Blog

कारी


कद लागै
किन्नै ई चोखी
पण फेरूं ई
आपां लगावां
अर धिकावां
बगतसारू
ठौड़-ठौड़ कारी.

अबखायां में आडो आणो
दोरो सोरो टैम टिपाणो
बींधती निजरां साम्ही
थुड़पणो लुकाणो
नेम है कारी रो.

बस पूगतां
आपरो धरम
निभावै है कारी
ढकै है चीजबस्त
आच्छी माडी सारी.

पण फेर ई
कांय ठाह क्यूं
गडै है
रड़कै है
सब री निजरां में कारी
लगावणियै नै ई
आ बोकरै
उण पर झूंझल
अर कदे कदे बा लागै
जैर सूं भी खारी.

कदास इणी दुभांत री
रीस जतावै है कारी
आपां कित्तोई लकोवां 
दुनिया नै आपरो वजूद
बतावै है कारी.

No comments:

Post a Comment

आलेख पर आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है. यदि आलेख पसंद आया हो तो शेयर अवश्य करें ताकि और बेहतर प्रयास किए जा सकेंं.

अनूठी कहाणियां रौ संग्रै — ‘पांख्यां लिख्या ओळमां’

  (समीक्षा-प्रेमलता सोनी) "हथाई रै गोळी कुण ठोकी ?" "चैटिंग !" "ओ हो, वा अठै कद पूगी ?"... ‘गरागाप’ कहाणी सूं ...

Popular Posts